ये 9 घरेलू नुस्खे, बचाये आपको साइनस से होने वाली परेशानी से

साइनस एक स्वास्थ्य समस्या है, जिसे पूरी तरह से ठीक नहीं किया जा सकता है। हालाँकि कुछ घरेलू उपचारों की मदद से साइनस के लक्षण को कम व इससे बचाव किया जा सकता है। ऐसे ही  9 घरेलू उपचारों के बारे में हम आपको बताते है। जिससे बहुत जल्दी साइनस से आराम और राहत मिल सकती है।

साइनस 

Sinus
साइनस खोपड़ी में हवा से भरी कैविटी होती है, जो सिर को हल्कापन और सांस लेने वाली हवा प्रदान करने में मदद करती है। श्वास के दौरान प्रवेश करने वाली हवा इस थैली से होकर फेफड़ों तक जाती है। इस थैले में हवा के साथ आने वाली गंदगी यानी धूल और दूसरी तरह की गंदगी रुक जाती है और उसे बाहर फेंक दिया जाता है। साइनस झिल्ली के संक्रमण से सूजन आ जाती है। सूजन की वजह से हवा के बजाय साइनस में मवाद या बलगम भर जाता है, जिससे साइनस बंद हो जाते हैं।

साइनस के लक्षण

sinus_1
साइनस की वजह से माथे, गाल और ऊपरी जबड़े में दर्द होता है। सिरदर्द आगे झुकने और नीचे लेटने से दर्द बढ़ जाता है। कई बार तो नाक बंद होना, थकान, जुकाम के साथ बुखारआना, चेहरे पर सूजन और नाक के पीले या हरे रंग के द्रव जैसे लक्षण होते हैं। इसे साइनोसाइटिस भी कहा जाता है। साइनस एक स्वास्थ्य समस्या है जिसे पूरी तरह से ठीक नहीं किया जा सकता है। सावधानी और घरेलू नुस्खों की मदद से उसके लक्षणों से छुटकारा पाया जा सकता है।

1. सही आहार 

Sinus_2
संक्रमण के दौरान मॉडरेशन में खाएं। ऐसे में साबुत अनाज, बीन्स, दाल, थोड़ी पकी हुई सब्जियां, सूप आदि का सेवन करें। उन खाद्य पदार्थों के सेवन से बचें जो फ्लोर प्रोडक्ट्स, अंडे, चॉकलेट, तली हुई और प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ, चीनी और दूध उत्पादों से बनी हो। इन सब को खाने से बचना चाहिए नहीं तो ये बलगम को बढ़ा देती है। इसके अलावा ढेर सारा पानी पिएं।

2. सेब साइडर सिरका

Sinus_3
साइनस के संकेत समझ में आते ही लगभग 180ml पानी में एक-दो चम्मच अनफ़िल्टर्ड सेब साइडर सिरका डालें और उसमें 1 चम्मच शहद मिलाकर दिन में 3 बार पियें। इस सिरके को कम से कम 5 दिनों तक पियें। सेब साइडर सिरका बलगम को बनने से रोक व बलगम को तोड़ देता है, जिससे वह आसानी से बाहर आ जाता है।

3. सब्जियों का रस

sinus_4
साइनस के संक्रमण को रोकने के सब्जियों का उपयोग सबसे बढ़िया घरेलू इलाज है। अगर आप गाजर का रस(300 एमएल), चुकंदर का रस (100 एमएल) , पालक का रस(200 एमएल) और ककड़ी का रस प्रतिदिन पियें तो आपको साइनस की जैसी समस्या से जल्द ही आराम मिल जायेगा। गाजर के रस में कमाल के पौष्टिक गुण पायें जाते हैं जो साइनस के उपचार में बहुत फायदेमंद साबित होते हैं। आप रोज एक ग्लास गाजर के रस को चुकंदर, खीरे या फिर पालक के रस के साथ में से सेवन कर सकते हैं।

4. जैतून का तेल

sinus_5
जैतून के तेल से अपनी नाक और आंखों के चारों ओर मसाज करें। जैतून के तेल आपकी सांसनली में आ रही रुकावट को साफ करने मे सहायता प्रदान करता है,और सायनस के दर्द में भी काफी राहत मिल जाती है।

5. ग्रेपफ्रूट सीड एक्स्ट्रैक्ट

sinus_6
ये खट्टे एक्स्ट्रैक्ट शक्तिशाली प्राकृतिक एंटीबायोटिक होते हैं। जो कि और रोगाणुओं, परजीवी, बैक्टीरिया, वायरस और कैंडीडा यीस्ट सहित 30 प्रकार के कवकों को रोकने के लिए उपयोग किये जाते हैं। साइनस संक्रमण होने पर आप इसका नाक में डालने वाला स्प्रे भी ले सकते हैं।

6. योग

sinus_7
साइनस एक सास से संबंधी समस्या है, शुद्ध हवा प्राप्त करने के लिए योग जरूर करें। योग में सूत्रनेती, जल नेती क्रियाएं तथा प्राणायाम में अनुलोम-विलोम और भ्रामरी व आसनों में सिंहासन और ब्रह्ममुद्रा अवश्य करें।इसके अलावा मुंह और नाक के लिए बनाए गए अंग संचालन जरूर करें। कुछ योग हस्त मुद्राएं भी इस रोग में लाभदायक सिद्ध हो सकती हैं। प्राणायाम और ब्रह्ममुद्रा नियमित रूप से करें।

7. प्याज और लहसुन

sinus_9
साइनस के सिरदर्द में लाभ लेने के लिए लहसुन और प्याज को एक साथ कूट कर पानी में अच्छे से उबालें और फिर उसकी भाप को अंदर लें। साथ ही गर्म कपड़ा या फिर गर्म पानी की बोतल को गालों के ऊपर रखकर सिकाई करे, ये बहुत लाभप्रद होता है। यह प्रक्रिया दिन में 3 से 4 बार लगभग एक मिनट तक करनी चाहिए। आपको अपने नियमित आहार में प्याज और लहसुन को शामिल कर लेना चाहिए। इसके अतिरिक्त साइनस के सिरदर्द को कम करने के लिए नाक के दोनों छिद्र पर प्याज के रस की दो-दो बूंदें भी डालना चाहिए।

8. जीरा

sinus_10
साइनस एक श्वास संबंधी समस्या है। इस प्रकार की समस्याओं से राहत पाने के लिए थोड़े से जीरे के बीज ले और उन्हें एक पतले कपड़े में बांधे। तुरंत राहत पाने के लिए थोड़ी देर इस कपड़े के माध्यम से सांस लें। ऐसा करने से साइनस के दर्द से राहत मिलती है

9.युकलिप्टस तेल या पाइनआयल

sinus_11
साइनस का दर्द होने पर भाप लेना अधिक लाभदायक है।भाप लेने के लिए आपको  गर्म पानी में युकलिप्टस तेल या पाइन आयल की कुछ बूंदें मिला कर इस भाप को कुछ देर तक ले। साइनस के लक्षणों से आराम पाने के लिए आपको दिन में कभी भी 1 से 2 बार इसकी भाप को लेते रहना चाहिए।